महिला ने अपने साथी के साथ उसी बैंक में लूट की थी, जहां वो कई सालों से काम कर रही थी. 

 उसका साथी भी इसी बैंक के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में से एक था  

बैंक से करीब 68 करोड़ रुपये चुराए गए थे.

दोनों बैंक के उच्च अधिकारियों में शामिल थे, इसीलिए शुरू में किसी को उनपर शक नहीं हुआ.

 पैसों की जगह कागज के टुकड़े तिजोरी में भर दिए गए थे.

जब तक उसकी करतूत का खुलासा होता, तब तक वो प्राइवेट जेट से देश से भाग चुकी थी

लूट का ये मामला तब खुला जब बैंक के क्लर्क ने देखा कि तिजोरी में पैसों की जगह कागज के टुकड़े भरे हुए हैं

हालांकि, घटना के चार साल अब आरोपी महिला को पकड़ लिया गया है.